Uttarakhand Portal: Music,Personality,Talents,Science,Culture,Election,Tourism,Kumaon,Garhwal
हाथन हुसकि पिलाई फूलन पिलायो रम

हाथन हुसकि पिलाई फूलन पिलायो रम

नरेंद्र सिंह नेगी अपने गीतों से उत्तराखंड के  समाज का यथार्थ हमारे सामने रखते रहे हैं। समय समय पर उन्होंने उत्तराखंड की राजनीति पर भी करारे व्यंग्य कसे हैं। आज हम आपके सामने ऐसा ही एक गीत प्रस्तुत कर रहे हैं जिसमें चुनाव के समय बड़ी बड़ी राजनैतिक पार्टियों द्वारा मतदाताओं को लुभाने के लिये […]

Full Story »
हिट भुला हाथ खुटा हला, खाण कमाणें छुईं कला

हिट भुला हाथ खुटा हला, खाण कमाणें छुईं कला

नरेन्द्र सिंह नेगी के गीतों की सबसे बड़ी खूबी यह है कि उनके गीत समाज को एक सार्थक सन्देश देते हैं। प्रस्तुत गीत भी युवा पीढी को आलस त्याग कर कर्मशील, मेहनती और आत्मनिर्भर बनने को प्रेरित करता है। आमतौर पर यह देखा गया है कि पहाड़ के पुरुष स्वरोजगार के प्रति आकर्षित नहीं होते। […]

Full Story »
ना जा ना तौं भेळू पखाण, जिदेरी घसेरी बोल्यूं माण

ना जा ना तौं भेळू पखाण, जिदेरी घसेरी बोल्यूं माण

पिछ्ली बार की तरह एक बार फिर ऑडियो कैसेट “नयुं नयुं ब्यो च”  से नरेंद्र सिंह नेगी जी द्वारा गायिका अनुराधा निराला जी की साथ गाया एक गीत प्रस्तुत कर रहे हैं। यह गीत एक और जहाँ पहाड़ की संघर्षशील नारी की जीवटता को दर्शाता है वहीं  दूसरी और सरकार द्वारा बिना सोचे समझे नीतियाँ […]

Full Story »
बिजी जा दी लाटी, बिजी जा दी लाटी……

बिजी जा दी लाटी, बिजी जा दी लाटी……

नरेन्द्र सिंह नेगी जी का यह भावपूर्ण गाना उनकी ऑडियो कैसेट “नयुं नयुं ब्यो च” में आया था बाद में इसी नाम से एक वीडियो एलबम भी निकली। एक नवविवाहिता अपने मायके आई है, अब उसके वापस ससुराल जाने का दिन आ पहुंचा है। नवविवाहिता अभी किशोरावस्था में ही है,  उसे पैदल ही ससुराल तक […]

Full Story »

PAHAR-People’s Association for Himalaya Area Research.

PAHAR is a non-profit organization dedicated to raising awareness of the fragile Himalayan environment and bringing together scientists, social activists, and common people to save the Himalayas.PAHAR fulfils several important roles that no government institution can. Part think tank, part research institute, and part activist body, PAHAR is best known for its publications on all aspects of Himalayan geography, culture, and politics. Under the guidance some of Uttarakhand’s preeminent historians, PAHAR has sponsored everything from archaeological expeditions to earthquake relief measures to social movement research. In these efforts, PAHAR has bypassed overly credentialed academic work for that jointly conducted by scientists, activists, and interested citizens.

Various Songs on this site
Other Categories