avatar

उत्तराखंड से संबंधित समस्त जानकारी इंटरनैट पर लाने का संकल्प लिये एक अदना सा व्यक्ति। अपने फोरम और मेरा पहाड़ के साथ प्रयासरत।

5 responses to “द्वी दिन की हौरि छ अब खैरि- मुट्ट बोटीकि रख”

  1. avatar

    उत्तराखण्ड में तो लगता है कि मुट्टी बोटिक रखने की जरुरत हमेशा ही रहेगी। पहले बाहरी लोगों के लिये मुट्ठियां तनती थीं, अब अपने लोगों के लिये भी मुट्ठियां ताननी पड़ रही हैं। ये भी एक विडम्बना ही है।

  2. avatar

    bahut accha gana hai……लगता है की मुठिया ताननी ही पड़ेंगी..

  3. avatar

    Fully agree with Ghingaru jee. Satya bachan kaha aapne.
    Raj Pithoragariya

  4. avatar

    bahut hi badhiya gana hai,

  5. avatar

    क्या गजब का गीत लिखा और स्वर दिया है नेगी जी ने। उत्तराखंड मिल गया है लेकिन आज राज्य के जैसे हालात हैं उससे यह गीत आज भी उतना ही प्रासांगिक है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: